कृषि प्रणालियों का लाभ गांव-गांव तक पहुंचाने पर जोर

Spread the love


चिन्यालीसौड़ कृषि विज्ञान केंद्र में नर्सरी का निरीक्षण करते डीएम।
– फोटो : UTTER KASHI

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

डीएम मयूर दीक्षित ने कृषि विज्ञान केंद्र का निरीक्षण कर यहां संचालित गतिविधियों का जायजा लिया। उन्होंने कृषि विज्ञान केंद्र के माध्यम से नवीन कृषि प्रणालियों का लाभ गांव-गांव तक पहुंचाने पर जोर दिया।
शनिवार को बीडीसी बैठक में शामिल होने चिन्यालीसौड़ पहुंचे डीएम मयूर दीक्षित ने यहां विवेकानंद पर्वतीय कृषि अनुसंधान संस्थान अल्मोड़ा द्वारा संचालित कृषि विज्ञान केंद्र का निरीक्षण किया। उन्होंने केंद्र परिसर के साथ ही कृषि प्रक्षेत्र, पॉलीहाउस, संग्रहालय, जल संचयन टैंक, मशरूम उत्पादन इकाई आदि का निरीक्षण कर केंद्र में संचालित गतिविधियों का जायजा लिया। डीएम ने यहां एलडीपीई टैंकों में जल संचयन और सूक्ष्म सिंचाई प्रणाली का लाभ अधिक से अधिक किसानों तक पहुंचाने के लिए इन तकनीकों को भड़कोट गांव की तरह अन्य गांवों में भी अपनाने पर जोर दिया। उन्होंने यहां प्रशिक्षण ले रहे किसानों व बीएससी कृषि के प्रशिक्षु छात्र-छात्राओं से भी मुलाकात कर जानकारी ली। इस मौके पर कृषि विज्ञान केंद्र के प्रभारी अधिकारी डा.पंकज नौटियाल , एसडीएम आकाश जोशी, मुख्य कृषि अधिकारी गोपाल भंडारी, मुख्य उद्यान अधिकारी डा.रजनीश, एसओ विनोद थपलियाल, डा.गौरव पपनै, नीरज जोशी, रोहिणी खोब्रागडे, वरुण सुप्याल, ख्यालाल आर्य, रीतिका भास्कर आदि मौजूद रहे। ब्यूरो

डीएम मयूर दीक्षित ने कृषि विज्ञान केंद्र का निरीक्षण कर यहां संचालित गतिविधियों का जायजा लिया। उन्होंने कृषि विज्ञान केंद्र के माध्यम से नवीन कृषि प्रणालियों का लाभ गांव-गांव तक पहुंचाने पर जोर दिया।

शनिवार को बीडीसी बैठक में शामिल होने चिन्यालीसौड़ पहुंचे डीएम मयूर दीक्षित ने यहां विवेकानंद पर्वतीय कृषि अनुसंधान संस्थान अल्मोड़ा द्वारा संचालित कृषि विज्ञान केंद्र का निरीक्षण किया। उन्होंने केंद्र परिसर के साथ ही कृषि प्रक्षेत्र, पॉलीहाउस, संग्रहालय, जल संचयन टैंक, मशरूम उत्पादन इकाई आदि का निरीक्षण कर केंद्र में संचालित गतिविधियों का जायजा लिया। डीएम ने यहां एलडीपीई टैंकों में जल संचयन और सूक्ष्म सिंचाई प्रणाली का लाभ अधिक से अधिक किसानों तक पहुंचाने के लिए इन तकनीकों को भड़कोट गांव की तरह अन्य गांवों में भी अपनाने पर जोर दिया। उन्होंने यहां प्रशिक्षण ले रहे किसानों व बीएससी कृषि के प्रशिक्षु छात्र-छात्राओं से भी मुलाकात कर जानकारी ली। इस मौके पर कृषि विज्ञान केंद्र के प्रभारी अधिकारी डा.पंकज नौटियाल , एसडीएम आकाश जोशी, मुख्य कृषि अधिकारी गोपाल भंडारी, मुख्य उद्यान अधिकारी डा.रजनीश, एसओ विनोद थपलियाल, डा.गौरव पपनै, नीरज जोशी, रोहिणी खोब्रागडे, वरुण सुप्याल, ख्यालाल आर्य, रीतिका भास्कर आदि मौजूद रहे। ब्यूरो



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *